Loading....

पौधा माँग - पत्र

  • User Detail
  • Select Plants
  • Order Review
  • Finish

Select Plants

निम्बू

नीबू (Citrus limon, Linn.) छोटा पेड़ अथवा सघन झाड़ीदार पौधा है। इसकी शाखाएँ काँटेदार, पत्तियाँ छोटी, डंठल पतला तथा पत्तीदार होता है। फूल की कली छोटी और मामूली रंगीन या बिल्कुल सफेद होती है। प्रारूपिक (टिपिकल) नीबू गोल या अंडाकार होता है। छिलका पतला होता है, जो गूदे से भली भाँति चिपका रहता है। पकने पर यह पीले रंग का या हरापन लिए हुए होता है। गूदा पांडुर हरा, अम्लीय तथा सुगंधित होता है।

35 each
Qty
Generic placeholder image
BFD4D276
अमलतास

अमलतास पीले फूलो वाला एक शोभाकर वृक्ष है।भारत में इसके वृक्ष प्राय: सब प्रदेशों में मिलते हैं। तने की परिधि तीन से पाँच कदम तक होती है, किंतु वृक्ष बहुत उँचे नहीं होते। धुपकाल (अप्रैल, मई) में पूरा पेड़ पिले फुलों के लंबे लंबे गुच्छोंसे भर जाता है।

12 each
Qty
Generic placeholder image
BCE75460
आंवला

आँवला एक फल देने वाला वृक्ष है। यह करीब २० फीट से २५ फुट तक लंबा झारीय पौधा होता है। यह एशिया के अलावा यूरोप और अफ्रीका में भी पाया जाता है। हिमालयी क्षेत्र और प्राद्वीपीय भारत में आंवला के पौधे बहुतायत मिलते हैं।

12 each
Qty
Generic placeholder image
B7C9F774
हर्रा

हर्रा के वृक्ष विशाल होते हैं, जिनकी छाल गहरे भूरे रंग की होती है। हर्रा आमतौर से उत्तर भारत के उष्णकटिबन्धीय पर्णपाती वनों (Tropical deciduous forests) में पाया जाता है। ... हर्रा वृक्ष के सफेद पुष्प अप्रैल-जून में प्रकट होते हैं तथा फल शीत ऋतु में पक के तैयार होते हैं। फल ड्रयूप (Drupe) प्रकार का होता है।

12 each
Qty
Generic placeholder image
C5011781
जामफल

जामफल का प्रसारण अधिकतर बीज द्वारा किया जाता है, परंतु अच्छी जातियों के गुणों को सुरक्षित रखने के लिए आम की भाँति भेटकलम (इनाचिंग) द्वारा नए पौधे तेयार करना सबसे अच्छी रीति हैं। बीज मार्च या जुलाई में बो देना चाहिए। वानस्पातिक प्रसारण के लिए सबसे उतम समय जुलाई अगस्त है। पौधे २० फुट की दूरी पर लगाए जाते हैं।

12 each
Qty
Generic placeholder image
AEB23AD9
शमी

शमी का वृक्ष आठ से दस मीटर तक ऊंचा होता है। शाखाओं पर कांटे होते हैं। इसकी पत्तियां द्विपक्षवत होती हैं। शमी के फूल छोटे पीताभ रंग के होते हैं।

25 each
Qty
Generic placeholder image
7DDC0A6C
सागोन

सागौन या टीकवुड द्विबीजपत्री पौधा है। यह चिरहरित यानि वर्ष भर हरा-भरा रहने वाला पौधा है। सागौन का वृक्ष प्रायः 80 से 100 फुट लम्बा होता है। इसका वृक्ष काष्ठीय होता है। इसकी लकड़ी हल्की, मजबूत और काफी समय तक चलनेवाली होती है। इसके पत्ते काफी बड़े होते हैं। फूल उभयलिंगी और सम्पूर्ण होते हैं।

0 each
Qty
Generic placeholder image
5DC1DC54
बरगद

बरगद बहुवर्षीय विशाल वृक्ष है। इसे 'वट' और 'बड़' भी कहते हैं। यह एक स्थलीय द्विबीजपत्री एंव सपुष्पक वृक्ष है। इसका तना सीधा एंव कठोर होता है। इसकी शाखाओं से जड़े निकलकर हवा में लटकती हैं तथा बढ़ते हुए धरती के भीतर घुस जाती हैं एंव स्तंभ बन जाती हैं। इन जड़ों को बरोह या प्राप जड़ कहते हैं। इसका फल छोटा गोलाकार एंव लाल रंग का होता है।

0 each
Qty
Generic placeholder image
CF45DBD8
कचनार

कचनार एक सुंदर फूलों वाला वृक्ष है। कचनार के छोटे अथवा मध्यम ऊँचाई के वृक्ष भारतवर्ष में सर्वत्र होते हैं। लेग्यूमिनोसी (Leguminosae) कुल और सीज़लपिनिआयडी (Caesalpinioideae) उपकुल के अंतर्गत बॉहिनिया प्रजाति की समान, परंतु किंचित्‌ भिन्न, दो वृक्षजातियों को यह नाम दिया जाता है, जिन्हें बॉहिनिया वैरीगेटा (Bauhinia variegata) और बॉहिनिया परप्यूरिया (Bauhinia purpurea) कहते हैं

12 each
Qty
Generic placeholder image
A0D4384F
बहेड़ा

बहेड़ा कीड़ों को मारने वाली औषधि है। बहेड़े के फल की मींगी मोतियाबिन्द को दूर करती है। इसकी छाल खून की कमी, पीलिया और सफेद कुष्ठ में लाभदायक है। इसके बीज कड़वे, नशा लाने वाले, अत्यधिक प्यास, उल्टी, तथा दमा रोग का नाश करने वाले हैं।

12 each
Qty
Generic placeholder image
E861E338
आम

आम की बागवानीफूल निकलने के समय आम आर्द्रता, जल या कुहासा को बिल्कुल बर्दाश्त नहीं करता है। औसत वार्षिक वर्षा 150 से. ... कम अम्लीय मिट्टी में आम की फसल अच्छी होती है। कच्चे आम का उपयोग अचार, चटनी और आमचुर में होता है।

0 each
Qty
Generic placeholder image
6F4E66B2
जामुन

जामुन (वैज्ञानिक नाम : Syzygium cumini) एक सदाबहार वृक्ष है जिसके फल बैंगनी रंग के होते हैं (लगभग एक से दो सेमी. व्यास के) | यह वृक्ष भारत एवं दक्षिण एशिया के अन्य देशों एवं इण्डोनेशिया आदि में पाया जाता है। ... इस फल के बीज में काबोहाइट्ररेट, प्रोटीन और कैल्शियम की अधिकता होती है। यह लोहा का बड़ा स्रोत है।

12 each
Qty
Generic placeholder image
3F31DD11
meetha neem

नीम बहुतायात में पाया जाने वाला वृक्ष है. यह औषधीय गुणों से भरपूर होता है, इसलिए आम जीवन में इसका खूब प्रयोग होता है. इसकी पत्तियों से लेकर इसके बीज तक सब कुछ अत्यंत उपयोगी होते हैं. त्वचा, पेट, आँखें और विषाणु जनित समस्याओं में इसका प्रयोग अद्भुत होता है.

12 each
Qty
Generic placeholder image
218740C0
महुआ

महुआ (वानस्पतिक नाम : Madhuca longifolia/mahua लोंगफोलिआ) एक भारतीय उष्णकटिबन्धीय वृक्ष है जो उत्तर भारत के मैदानी इलाकों और जंगलों में बड़े पैमाने पर पाया जाता है। यह एक तेजी से बढ़ने वाला वृक्ष है जो लगभग 25 मीटर की ऊँचाई तक बढ़ सकता है। इसके पत्ते आमतौर पर वर्ष भर हरे रहते हैं।

12 each
Qty
Generic placeholder image
87C90EAE
पीपल

यह अनेक शाखाओं वाला, विशाल औक कई वर्षों तक जीवित रहता है। पुराने वृक्ष की छाल फटी व सफेद-श्यमाले रंग की होती है। इसके नए पत्ते (Peepal Leaf) कोमल, चिकने तथा हल्के लाल रंग के होते हैं। इसके फल चिकने, गोलाकार, छोटे-छोटे होते हैं।

35 each
Qty
Generic placeholder image
AB4565A8
कुसुम

कुसुम (Carthamus tinctorius एल) एक अत्यधिक branched, घास, थीस्ल की तरह वार्षिक संयंत्र है। यह व्यावसायिक रूप से वनस्पति तेल के बीज से निकाले के लिए खेती की जाती है। पौधे 30 से 150 सेमी (12 में से 59) गोलाकार फूल पीले, नारंगी या लाल फूल होने के प्रमुखों के साथ लंबे हैं। प्रत्येक शाखा आम तौर पर एक से पांच फूल सिर के अनुसार 15 से 20 बीज युक्त सिर से होगा

12 each
Qty
Generic placeholder image
E153AC43
सीता अशोक

सीता अशोक अशोक वृक्ष के पुष्प को कहते है। यह भारत के उड़ीसा प्रान्त का राजकिय पुष्प है।

35 each
Qty
Generic placeholder image
DEDE043D
करंज

करंज नाम से जानी जाने वाली प्रथम वृक्ष जाति को संस्कृत वाङ्मय में नक्तमाल, करंजिका तथा वृक्षकरंज आदि और लोकभाषाओं में डिढोरी, डहरकरंज अथवा कणझी आदि नाम दिए गए हैं। इसका वैज्ञानिक नाम पोंगैमिया ग्लैब्रा (Pongamia glabra) है, जो लेग्यूमिनोसी (Leguminosae) कुल एवं पैपिलिओनेसी (Papilionaceae) उपकुल में समाविष्ट है।

12 each
Qty
Generic placeholder image
F289F88A
सुरजना

सहजन (Drumstick tree ; वानस्पतिक नाम : "मोरिंगा ओलिफेरा" (Moringa oleifera) ) एक बहु उपयोगी पेड़ है। इसे हिन्दी में सहजना, सुजना, सेंजन और मुनगा आदि नामों से भी जाना जाता है। इस पेड़ के विभिन्न भाग अनेकानेक पोषक तत्वों से भरपूर पाये गये हैं इसलिये इसके विभिन्न भागों का विविध प्रकार से उपयोग किया जाता है।

12 each
Qty
Generic placeholder image
0317DE2B
गुलाब

गुलाब एक बहुवर्षीय, झाड़ीदार, कंटीला, पुष्पीय पौधा है जिसमें बहुत सुंदर सुगंधित फूल लगते हैं। इसकी १०० से अधिक जातियां हैं जिनमें से अधिकांश एशियाई मूल की हैं। जबकि कुछ जातियों के मूल प्रदेश यूरोप, उत्तरी अमेरिका तथा उत्तरी पश्चिमी अफ्रीका भी है।

0 each
Qty
Generic placeholder image
81D530E7
बाँस

बाँस, ग्रामिनीई (Gramineae) कुल की एक अत्यंत उपयोगी घास है, जो भारत के प्रत्येक क्षेत्र में पाई जाती है। बाँस एक सामूहिक शब्द है, जिसमें अनेक जातियाँ सम्मिलित हैं। मुख्य जातियाँ, बैंब्यूसा (Bambusa), डेंड्रोकेलैमस (नर बाँस) (Dendrocalamus) आदि हैं। बैंब्यूसा शब्द मराठी बैंबू का लैटिन नाम है।

12 each
Qty
Generic placeholder image
446F450D
काम्पोस्ट खाद

अच्छा कम्पोस्ट खाद गन्द रहित भूरे या भूरे काले रंग का भुरभुरा पदार्थ होता है। इसके 0.5 से 1.0 प्रतिशत पोटाश एवं अन्य गौण पोषक तत्व होते हैं।

10 each
Qty
Generic placeholder image
3E88D228
संतरा

संतरे का पेड़ एक सिट्रस सदाबहार पेड़ है, जिसका उत्पादन काल 50-60 साल तक का हो सकता है। ... यह फूलों वाला पेड़ है और बड़े होने पर इसकी लम्बाई 16 से 50 फीट (5 और 15 मीटर के बीच) तक हो सकती है। संतरे के पेड़ को ज्यादातर इसके फलों के लिए उगाया जाता है, लेकिन इसे फूलों के लिए और सजावटी पौधे के रूप में भी उगाया जाता है।

0 each
Qty
Generic placeholder image
11AFA7DC
लसोड़ा

इसे हिन्दी में 'गोंदी' और 'निसोरा' भी कहते हैं। संस्कृत में 'श्लेषमातक' कहते हैं। इसके फल सुपारी के बराबर होते हैं। कच्चा लसोड़ा का साग और आचार भी बनाया जाता है। पके हुए लसोड़े मीठे होते हैं तथा इसके अन्दर गोंद की तरह चिकना और मीठा रस होता है दक्षिण, गुजरात और राजपूताना में लोग पान की जगह लसोड़े का उपयोग कर लेते हैं। लसोड़ा में पान की तरह ही स्वाद होता है

12 each
Qty
Generic placeholder image
EA4E0903
मोगरा

मोगरा (वानस्पतिक नाम : Jasminum sambac) एक फूल देने वाला पौधा है। जो दक्षिण एशिया तथा दक्षिण-पूर्व एशिया का देशज है। यह फिलिपिंस का राष्ट्रीय पुष्प है। इसे संस्कृत में 'मालती' तथा 'मल्लिका' कहते हैं। मोगरा एक भारतीय पुष्प है। मोगरे का लैटिन नाम जेसमिनम सेमलेक है। मोगरे का फूल बहुत सुगन्धित होता है। मोगरा के फूल से सुगन्धित फूलों की माला और गजरे तैयार किये व पहने जाते हैं। रंग मोगरे के फूल का रंग सफ़ेद रंग का होता हैं।

0 each
Qty
Generic placeholder image
492AFAE4
कबीट

कबिट (Limonia acidissima L. / लीमोन्या आकीदीस्सीमा) एक फल है जो बेल जैसा होता है। इसे 'कपित्थ' या कठबेल भी कहते हैं। आयुर्वेद में कबीट को पेट रोगों का विशेषज्ञ माना गया है। इसका जहाँ शरबत इस्तेमाल किया जाता है, वहीं चटनी भी खूब पसंद की जाती है। भारत में कबीट दक्षिण भारत से लेकर ठेठ उत्तर पया जाता है। इसके अलावा यह बांग्लादेश, पाकिस्तान, श्री लंका, जावा, मलेशिया आदि में भी पाया जाता है।

12 each
Qty
Generic placeholder image
BFB07713
खिरनी

खिरनी के पेड़ 3-12 मीटर लंबे होते हैं और मुख्यतः जंगलों में पाए जाते हैं। हालांकि इसके फल स्वादिष्ट होने के कारण इसे ऊष्णकटिबंधीय क्षेत्रों में उगाया जाने लगा। खिरनी का पेड़ भारत में उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, बिहार, छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र, तमिलनाडु आदि जगहों पर पाया जाता है।

12 each
Qty
Generic placeholder image
F00A6D35
चिरोल

चिरोल /चिलबिल के पेड़ को हम सब जानते पहचानते हैं लेकिन उसके फायदों से अधिकांश लोग अंजान हैं. आयुर्वेद के अनुसार चिलबिल की पत्तियां और तने की छाल कई बीमारियों के इलाज में मदद करती हैं. पेट से जुड़े रोगों और डायबिटीज के मरीजों के लिए भी चिलबिल बहुत ही उपयोगी है.

12 each
Qty
Generic placeholder image
103FD319
अर्जुन

अर्जुन वृक्ष भारत में होने वाला एक औषधीय वृक्ष है। इसे घवल, ककुभ तथा नदीसर्ज (नदी नालों के किनारे होने के कारण) भी कहते हैं। कहुआ तथा सादड़ी नाम से बोलचाल की भाषा में प्रख्यात यह वृक्ष एक बड़ा सदाहरित पेड़ है।

12 each
Qty
Generic placeholder image
CBB02A8B
अश्वगंधा

अश्वगंधा (withania somnifera) की पौधा सीधा 1.25 मीटर उॅचा होता हैं तथा इसके तने में बारीक रोम पाये जाते हैं। इसके पत्तिायों का आकार अण्डाकार एवं पत्तिायों में रोम पाये जाते है जिसे छूने से मुलायम महसूस होता है। फूल छोटे हरे या हल्के पीले रंग के तथा फल छोटे गोले नारंगी या लाल रंग के होते है।

12 each
Qty
Generic placeholder image
F636A8BF
टिकोमा

टिकोमा ग्रैण्डीफलोरा (Tecoma grandiflora) - यह बिगनोनिएसिई (Bignoniaceae) कुल की लता है। इसके फूल गरमी तथा वर्षाकाल में पाए जाते हैं और लाल रंग के होते हैं। इक्सोरा काक्सीनिया (Ixora coccinea) - यह रुबिएसिई (Rubiaceae) कुल का पौधा है।

12 each
Qty
Generic placeholder image
2EC085B1
सीताफल

यह एक प्रसिद्ध फलदार वृक्ष है, इसका वानस्पतिक नाम अनोनस्क्चैमोसा है। इसकी पत्तियाँ गहरी हरी रंग की होती है। ... इसकी पत्तियाँ हृदय रोग में टॉनिक का कार्य करता है क्योंकि इसकी पत्तियों में टेट्राहाइड्रो आइसोक्विनोसीन अल्कलायड पाया जाता है।

12 each
Qty
Generic placeholder image
79D1B856
सप्तपर्णी

पत्तियां एक गोल समूह में सात-सात के क्रम में लगी होती है और इसी कारण इसे सप्तपर्णी कहा जाता है। बांग्ला भाषा में इसे छातिम कहते हैं। सप्तपर्णी सदाबहार वृक्ष है। साल भर आपके सामने पूरी मासूमियत के साथ हरा-भरा खड़ा रहेगा, पर इसके दिल में क्या छिपा है, उसका उद्घाटन यह शरद की शुरुआत में ही करता है।

12 each
Qty
Generic placeholder image
7E7ED576
पोपलर

पोपलर एक पतझड़ी वृक्ष है और यह सैलिकेसी परिवार से संबंधित है। ... पोपलर की लकड़ी और छाल प्लाइवुड, बोर्ड और माचिस की तीलियां बनाने में प्रयोग की जाती हैं, खेल की वस्तुएं और पैन्सिल बनाने में भी इनका प्रयोग किया जाता है।

0 each
Qty
Generic placeholder image
413F2068
मोलश्री

मौलसिरी (Maulasiree) प्राय देश के हर भाग में पाया जाता है. सामान्यतया: इसे बागों में देखा जाता है. इसके पेड़ तीस से चालीस फिट ऊँचे होते हैं. पत्ते सगं व चिकने होते हैं. इनकी संरचना देखने में झोपडी के आकर की होती है. इस पेड़ पर पतझड़ का असर न के बराबर होता है.

35 each
Qty
Generic placeholder image
5B152392
क़दम्ब

कदम्ब या कदम का पेड़ को देव का वृक्ष माना जाता है। कदम्ब आयुर्वेद में अपने औषधीय गुणों के लिए बहुत ही मशहूर है। कदम्ब का स्वास्थ्यवर्द्धक गुण (Kadamba tree uses) बहुत सारे रोगों के उपचार के लिए उपयोग किया जाता है।

0 each
Qty
Generic placeholder image
212CD2E9
गुलमोहर

गुलमोहर[1] लाल फूलों वाला पेड़ है। इसकी जन्मभूमि मेडागास्कर को माना जाता है। कहते है कि सोलहवीं शताब्दी में पुर्तगालियों ने मेडागास्कर में इसे देखा था। अठारहवीं शताब्दी में फ्रेंच किटीस के गवर्नर काउंटी डी प़ोएंशी ने इसका नाम बदल कर अपने नाम से मिलता-जुलता नाम पोइंशियाना रख दिया। बाद में यह सेंट किटीस व नेवीस का राष्ट्रीय फूल भी स्वीकृत किया गया।

12 each
Qty
Generic placeholder image
39FD6747
बेलपत्र

बिल्व, बेल या बेलपत्थर, भारत में होने वाला एक फल का पेड़ है। इसे रोगों को नष्ट करने की क्षमता के कारण बेल को बिल्व कहा गया है।इसके अन्य नाम हैं-शाण्डिल्रू (पीड़ा निवारक), श्री फल, सदाफल इत्यादि। इसका गूदा या मज्जा बल्वकर्कटी कहलाता है तथा सूखा गूदा बेलगिरी। बेल के वृक्ष सारे भारत में, विशेषतः हिमालय की तराई में, सूखे पहाड़ी क्षेत्रों में ४००० फीट की ऊँचाई तक पाये जाते हैं।

12 each
Qty
Generic placeholder image
3FFF053C
जेट्रोफा या रतनजोत

जेट्रोफा लगभग १७५ प्रजाति की वनस्पतियों का समूह है जिसमें झाडियां और पौधे सम्मिलित हैं। इस पादप से प्राप्त होने वाले बीजों में 25-30 प्रतिशत तक तेल निकाला जा सकता है। इस तेल से कार आदि चलाये जा सकते हैं तथा जो अवशेष बचता है उससे बिजली पैदा की जा सकती है। जत्रोफा अनावृष्टि-रोधी सदाबहार झाडी है।

12 each
Qty
Generic placeholder image
21C7371D
शीशम

शीशम (Shisham या Dalbergia sissoo) भारतीय उपमहाद्वीप का वृक्ष है। इसकी लकड़ी फर्नीचर एवं इमारती लकड़ी के लिये बहुत उपयुक्त होती है। शीशम बहुपयोगी वृक्ष है। इसकी लकड़ी, पत्तियाँ, जड़ें सभी काम में आती हैं।

12 each
Qty
Generic placeholder image
1706788D
कटहल

कटहल या फनस का वृक्ष शाखायुक्त, सपुष्पक तथा बहुवर्षीय वृक्ष है। यह दक्षिण तथा दक्षिण-पूर्व एशिया का मूल-निवासी है। पेड़ पर होने वाले फलों में इसका फल विश्व में सबसे बड़ा होता है

12 each
Qty
Generic placeholder image
B7F952AF
पारस पीपल

सामान्य पीपल से पारस पीपल पूरी तरह अलग होता है। यह आमतौर जंगलों में पाया जाता है, पारस पीपल के पत्ते दूर से देखने पर कुछ-कुछ पीपल की तरह ही होते हैं, लेकिन इसके पत्तों की गोलाई अधिक होती है। इनमें भिंडी के फूलों की तरह पीले रंग के फूल आते हैं। इसके पेड़ की ऊंचाई भी अधिक नहीं होती। पारस पीपल के पत्तों और फूलों का उपयोग कई तरह की दवाइयों में भी किया जाता है।

12 each
Qty
Generic placeholder image
27AA881A

Order Review

Token - b13333
Ward No -
Name -
Mobile -

Order Successfully Placed !

Order Confirmation
Order No -
Token - b13333
Name - ''
Ward No - ''
Mobile No - ''

Thank you for your order. A confirmation email with token no has been send to your mail id. You will be shortly updated for plants delivery date and time.

Dewas Municipal Corporation